Featured Post

स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर आमरस एवं भजनामृत गंगा कार्यक्रम का हुआ भव्य आयोजन

Image
जयपुर। स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के तत्वावधान में रविवार, 19 मई, 2024 को कांवटिया सर्कल पर भावपूर्ण भजन संध्या का आयोजन के साथ आमरस प्रसादी का वितरण किया गया।  कार्यक्रम में प्रतिभाशाली कलाकारों की आकाशीय आवाजें शांत वातावरण में गुंजायमान हो उठीं, जो उपस्थित लोगों के दिलों और आत्मा को छू गईं। इस अवसर पर स्थानीय जनप्रतिनिधि, आईएएस राजेंद्र विजय, एडिशनल एसपी पूनमचंद विश्नोई, सुरेंद्र सिंह शेखावत, अनिल शर्मा, के.के. अवस्थी, अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण सहित सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के अध्यक्ष राधेश्याम तंवर, उपाध्यक्ष श्रीमती मीना कंवर, मंत्री मेघना तंवर, कोषाध्यक्ष अजय सिंह तंवर एवं गणमान्य अतिथिगण उपस्थित रहे।

छावसरी के लाडले को नम आंखों से दी अंतिम विदाई

भारत माता के जयकारों से गूंज उठी गांव की गलियां...



झुंझुनू। सैनिक और शहीदों की माटी के एक और लाडले को झुंझुनू जिलावासियों ने भावभीनी अंतिम विदाई दी। जिले के उदयपुरवाटी तहसील के छावसरी गांव के रहने वाले छात्रपाल सिंह का उनके गांव में अंतिम संस्कार किया गया। गांव में जैसे ही लाडले का प्रार्थिव देह पंहुचा तो भारत माता के जयकारों से गांव की गलियां गूंज उठी। घर में अंतिम सामाजिक क्रिया करने के बाद छावसरी के मैन बस स्टेण्ड पर शहीद का अंतिम संस्कार किया गया। शहीद की अंतिम यात्रा में बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित रहे। शहीद के भाई सूर्य प्रकाश ने मुखाग्नि दी। पुलिस के जवानों ने शहीद को गार्ड ऑफ ऑनर देकर राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी। इस दौरान शहीद के परिजन, ग्रामीणजन सहित उपखण्ड अधिकारी राजेन्द्र सिंह, उपाधीक्षक रामचन्द्र मूंड, गुढा एसएचओ राजेन्द्र शर्मा भी उपस्थित रहे।



इससे पहले उनका शव सेना के हैलीकॉप्टर के द्वारा झुंझुनू हवाई पट्टी पर लाया गया। हवाई पट्टी पर जिला कलक्टर उमरदीन खान, जिला पुलिस अधीक्षक जगदीश चन्द्र शर्मा, उपखण्ड अधिकारी सुरेन्द्र यादव, जिला सैनिक कल्याण अधिकारी कमाण्डर परवेज अहमद हुसैन, कोतवाल गोपाल ढाका, पीएमओ डॉ. शुभकरण कालेर ने शहीद की प्रार्थिव देह पर पुष्प चक्र अर्पित किये। इसके बाद शहीद की प्रार्थिव देह को यहां से एम्बूलेंस के द्वारा उनके गांव छावसरी ले जाया गया।


जिला सैनिक कल्याण अधिकारी ने बताया कि छत्रपाल सिंह अभी 29 दिन की छुट्टी बिताने के बाद 9 मार्च को ही वापस अपनी ड्यूटी पर लौटे थे। उनके परिवार में उनके पिता सुरेश कुमार पाल, माता शशीकला देवी तथा भाई सूर्य प्रताप सिंह है। छत्रपाल सिंह रविवार को जम्मू कश्मीर के कुपवाडा में शहीद हो गए थे। 12 अगस्त 1997 को जन्में छत्रपाल 15 जून 2015 को सेना में भर्ती हुए थे 23 साल के छत्रपाल पीटीआर पद पर कार्यरत थे।


Comments

Popular posts from this blog

आम आदमी पार्टी के यूथ विंग प्रेसिडेंट अनुराग बराड़ ने दिया इस्तीफा

1008 प्रकांड पंडितों ने किया राजस्थान में सबसे बड़ा धार्मिक अनुष्ठान

दी न्यू ड्रीम्स स्कूल में बोर्ड परीक्षा में अच्छी सफलता पर बच्चों को दिया नगद पुरुस्कार