Posts

Showing posts from August, 2021

Featured Post

स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर आमरस एवं भजनामृत गंगा कार्यक्रम का हुआ भव्य आयोजन

Image
जयपुर। स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के तत्वावधान में रविवार, 19 मई, 2024 को कांवटिया सर्कल पर भावपूर्ण भजन संध्या का आयोजन के साथ आमरस प्रसादी का वितरण किया गया।  कार्यक्रम में प्रतिभाशाली कलाकारों की आकाशीय आवाजें शांत वातावरण में गुंजायमान हो उठीं, जो उपस्थित लोगों के दिलों और आत्मा को छू गईं। इस अवसर पर स्थानीय जनप्रतिनिधि, आईएएस राजेंद्र विजय, एडिशनल एसपी पूनमचंद विश्नोई, सुरेंद्र सिंह शेखावत, अनिल शर्मा, के.के. अवस्थी, अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण सहित सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के अध्यक्ष राधेश्याम तंवर, उपाध्यक्ष श्रीमती मीना कंवर, मंत्री मेघना तंवर, कोषाध्यक्ष अजय सिंह तंवर एवं गणमान्य अतिथिगण उपस्थित रहे।

महिला लेखन पुरस्कार उमा और समाज सेवा सम्मान वीरेन्द्र विद्रोही को

Image
राष्ट्रभाषा प्रचार समिति ने की पुरस्कार घोषणा। 14 सितम्बर को किया जाएगा समादृत... जयपुर। राष्ट्रभाषा हिन्दी प्रचार समिति, श्रीडूंगरगढ द्वारा इस वर्ष शिवप्रसाद सिखवाल स्मृति महिला लेखन पुरस्कार साहित्यकार उमा को भारतीय ज्ञानपीठ से प्रकाशित उनकी चर्चित औपन्यासिक कृति ‘जन्नत जाविदाँ’  के लिए व रामकिशन उपाध्याय स्मृति समाज सेवा सम्मान प्रोमिनेंट एक्टीविस्ट डॉ. वीरेन्द्र विद्रोही को देने की घोषणा की गई है। संस्थाध्यक्ष श्याम महर्षि ने बताया कि आधी दुनिया के रूप में ख्यात महिला वर्ग में साहित्य के प्रोत्साहन और गरीब, बेसहारा, जरूरतमंद तबके के कल्याण हेतु सामाजिक सरोंकारों को समर्पित व्यक्तित्व की समाज सेवा को मान देने के लिए संस्था के दिवंगत पदाधिकारियों की स्मृति में प्रारम्भ किए गये श्री शिवप्रसाद सिखवाल स्मृति महिला लेखन पुरस्कार और श्री रामकिशन उपाध्याय स्मृति समाज सेवा सम्मान 14 सितम्बर, 2021 को आयोज्य संस्था के वार्षिकोत्सव में अर्पित किए जायेंगे। पुरस्कार निर्णय की जानकारी साझा करते हुए संस्था के मंत्री रवि पुरोहित ने बताया कि श्री शिवप्रसाद सिखवाल स्मृति महिला लेखन पुरस्कार इस वर्ष

महिला उत्पीड़न के मामलों को पुरजोर तरीके से उठाएं महिला पत्रकार - डॉ. शकुंतला सरूपरिया

Image
जार उदयपुर की ओर से आयोजित महिला पत्रकार वेबिनार में बोलीं कलमकार  महिला पत्रकार भी नहीं हैं सुरक्षित - एडवोकेट शशिबाला  उदयपुर। पत्रकारिता के क्षेत्र में शुरू से ही महिला पत्रकार और पुरुष पत्रकार जैसी सीमा बना दी गई। हार्डकोर रिपोर्टिंग के लिए महिला से पहले पुरुष रिपोर्टर को प्राथमिकता दी जाती रही है। लेकिन, अब समय बदल रहा है। महिला पत्रकार भी हार्डकोर रिपोर्टिंग में झंडे गाड़ रही हैं। चाहे महानगर हों या ग्रामीण क्षेत्र में काम कर रहीं महिला पत्रकार, वे खुद को कभी कमतर न समझें।  यह बात जयपुर की वरिष्ठ पत्रकार और राजस्थान पत्रिका जयपुर में डिप्टी न्यूज़ एडिटर रही श्रीमती मणिमाला शर्मा ने सोमवार को जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन ऑफ राजस्थान (जार) की उदयपुर इकाई की मेजबानी में हुई महिला पत्रकारों की वेबिनार में कही। ‘मीडिया में महिला पत्रकारों का स्थान, चुनौतियां और नए अवसर’ विषय पर आयोजित इस वेबिनार में मुख्य वक्ता के रूप में मणिमाला शर्मा ने कहा कि पत्रकारों को खबर को देखने और लिखने का नजरिया व अंदाज अलग हो सकता है, लेकिन पत्रकारिता में कोई पुरुष और महिला का भेद नहीं होता, पत्रकार सिर्फ पत्रकार ह