Posts

Showing posts from May, 2022

Featured Post

स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर आमरस एवं भजनामृत गंगा कार्यक्रम का हुआ भव्य आयोजन

Image
जयपुर। स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के तत्वावधान में रविवार, 19 मई, 2024 को कांवटिया सर्कल पर भावपूर्ण भजन संध्या का आयोजन के साथ आमरस प्रसादी का वितरण किया गया।  कार्यक्रम में प्रतिभाशाली कलाकारों की आकाशीय आवाजें शांत वातावरण में गुंजायमान हो उठीं, जो उपस्थित लोगों के दिलों और आत्मा को छू गईं। इस अवसर पर स्थानीय जनप्रतिनिधि, आईएएस राजेंद्र विजय, एडिशनल एसपी पूनमचंद विश्नोई, सुरेंद्र सिंह शेखावत, अनिल शर्मा, के.के. अवस्थी, अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण सहित सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के अध्यक्ष राधेश्याम तंवर, उपाध्यक्ष श्रीमती मीना कंवर, मंत्री मेघना तंवर, कोषाध्यक्ष अजय सिंह तंवर एवं गणमान्य अतिथिगण उपस्थित रहे।

शराब हारी और संघर्ष की विजय हुई - पूनम अंकुर छाबड़ा

Image
शराब बंदी के लिए करीरी में हुआ मतदान... करौली/ करीरी। क्षेत्र के करीरी गांव के जागरूक लोगों ने अथक प्रयास कर अपने गाँव को शराब जैसे घातक दानव से बचाने की मुहिम चलाई और राज्य में बने कानून के तहत सरकार से मतदान करवाने  का आग्रह किया तो सम्पूर्ण शराब बंदी आन्दोलन जस्टिस फॉर छबड़ा, जगदम्बा युवा ग्रुप, करीरी के सभी ग्राम वासी के नैतिक समर्थन के बाद सरकार ने करीरी में शराब के खिलाफ मतदान करवाने की स्वीकृति प्रदान की । आज ग्राम पंचायत करीरी में शराब के खिलाफ जस्टिस फ़ॉर छाबड़ा जी संगठन, ओमप्रकाश घूमना, पवन जैन, प्रेम डेरा, सरपंच लिछमा देवी, विजय करीरी की अगुवाई में मतदान हुआ और जागरूक ग्रामीणों ने बढ़ चढ़कर मतदान प्रक्रिया में भाग लिया । आज शराबबंदी के लिए 5400 कुल मतदाता में से 3834 वोट  मतदान हुआ, कुल मतदान का 97%मतदान शराबबंदी के पक्ष में हुआ। आज पक्ष में 3746 वोट डले। वोटिंग के लिए संगठन से ओमप्रकाश घूमना व प्रेम राज सैनी ने कमान संभाली। पिछले कई दिनों से संगठन के सभी लोग करीरी में ही रह रहे थे। सम्पूर्ण शराब बंदी आन्दोलन की राष्ट्रीय अध्यक्ष पूनम अंकुर छाबड़ा ने करीरी के जागरूक लोगों को

पत्रकार का स्वाभिमान उसकी खबरें: प्रभु चावला

Image
हिन्दी पत्रकारिता दिवस पर जार की ओर से स्वाभिमान से साक्षात्कार कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार प्रभु चावला का सम्बोधन... चित्तौड़गढ़। पत्रकारिता का आत्म सम्मान तभी रह सकता है जब पत्रकार की आत्म निर्भरता होगी। ग्रामीण पत्रकार भारत की आत्मा है और हिन्दुस्तान की पत्रकारिता में अन्य देशों के मुकाबले आज भी दम है। यह पत्रकारिता का ही कमाल है कि भारतीय लोकतंत्र में सत्ता तक परिवर्तन होते रहते है। पत्रकार का स्वाभिमान खबर है और आज की पत्रकारिता खरी नही है। हमने आंख और कान दोनो बंद कर रखे है। उक्त विचार हिन्दुस्तान के दिग्गज पत्रकार प्रभु चावला ने सोमवार को हिन्दी पत्रकारिता दिवस के मौके पर होटल अमृत मंथन में जर्नलिस्ट्स एसोसिएषन आॅफ राजस्थान (जार) की ओर से आयोजित स्वाभिमान से साक्षात्कार कार्यक्रम में बतौर मुख्य वक्ता व्यक्त किये। वरिष्ठ पत्रकार प्रभु चावला ने अपने संबोधन में कहा कि स्वाभिमान की परिभाषा चित्तौड़गढ़ से बेहतर कोई नही दे सकता है। चित्तौड़गढ़ की धरती एवं यहां के वीर वीरांगनाओं को प्रणाम करते हुए उन्होने कहा कि यहां का स्वाभिमान विश्व प्रसिद्ध है। उन्होने कहा कि यह मेरे लिए गौरव की बात है

अर्थशास्त्री और अच्छे प्रशासक रहे चौधरी चरणसिंह - डॉ. चन्द्रभान

Image
 किताब ‘किसान प्रणेता चौधरी चरणसिंह’ पर हुई चर्चा   वरिष्ठ साहित्यकारों ने किया कविता पाठ... जयपुर। ‘ पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरणसिंह सही मायने में किसान प्रणेता थे, उन्हें किसानों की परवाह थी। उनका मानना था कि देश में आजादी से पहले और बाद में हुए विभिन्न किसान आंदोलनों ने किसानों की चेतना जागृत की। उन्हें किसानों के वोट मिलते थे फिर भी सभी किसानों को उनका यही संदेश था की कमाई के नजरिए से हमें पूरी तरह खेत पर आश्रित नहीं होना चाहिए। अगर किसी किसान के दो बेटे हैं तो एक को ही कृषि में लाएं, दूसरे को किसी और काम में लगाएं। उन्होंने हमेशा अंतर्जातिय विवाह पर जोर दिया। चौधरी चरणसिंह एक समाज सुधारक, अर्थशास्त्री और अच्छे प्रशासक रहे। चौधरी जी का हमेशा यही कहना था कि सत्ता में आने के लिए आपके लक्ष्य एकदम स्पष्ट होने चाहिए। अगर धन कमाने की लालसा हो तो राजनीति में ना आए राजनीति में आने का उद्देश्य समाज में सुधार और देश का भला होना चाहिए।’ बीसूका समिति राजस्थान के उपाध्यक्ष डॉ. चन्द्रभान ने कलमकार मंच द्वारा प्रकाशित लेखक राजेन्द्र कसवा की किताब ‘किसान प्रणेता चौधरी चरणसिंह’ पर विद्याश्रम स्कूल

नेट-थियेट पर 20 साल बाद गूंजे चुन्नी जयपुरी के लोकगीत

Image
ओ मारवाड़ को छेलो कलकत्ते जाकर बसग्यो... जयपुर। नेट-थियेट के कार्यक्रमों की श्रृंखला में राजस्थान की सुप्रसिद्ध लोक-गायिका चुन्नी जयपुरी ने जब अपने अंदाज में राजस्थानी लोकगीतों पेश किया तो मधुर गायन से दर्शकों को सराबोर किया। नेट-थियेट के राजेन्द्र शर्मा राजू ने बताया कि चुन्नी जयपुरी देश-विदेश के बडे-बडे मंच पर श्रौताओं का मन मोहा है यह पहली बार था जब नेट-थियेट के लाइव मंच के माध्यम से लगभग 20 वर्ष बाद  दर्शकों से जुडी। राजस्थान में हुयी इस वेब रंगमंच की शुरूआत और इसके दो साल के सफर के बारे मे जानकर अविभूत हुयी। चुन्नी जयपुरी ने कार्यक्रम के शुरूआत महलाँ में भूल्याई म्हारी सूरमा की ड़ाबी से की। राजस्थान का लोकप्रिय लोकगीत नीम की निंबोळी म्हारे अड़अड़ जाय गीत सुनाया तो हर कोई मंत्रमुग्ध हो गया। इसके बाद जीजा साली की मस्ती मजाक को लेकर जीजाजी थारा तोलीया के हीरा मोती लटके नादान साली को मन भटके से और जीजा साली पर ही आधारित दूसरे गीत सुनतो जाजे रे जीजाजी म्हारी बातड़ली से दर्शकों को मदमस्त बना दिया। अंत में ओ मारवाड़ को छेलो कलकत्ते जाकर बसग्यो गा कर माहौल को लोकमयी बना दिया। कार्यक्रम का संचा

सकारात्मक व प्रामाणिक पत्रकारिता से ही व्यक्ति और देश का विकास सम्भव

Image
जार का वरिष्ठ पत्रकार सम्मान, पत्रकार सम्मेलन व प्रदेश कार्यसमिति की बैठक सम्पन्न  उदयपुर। राष्ट्रीय स्थायी लोक अदालत उदयपुर के अध्यक्ष  हिमान्शु राय नागौरी ने कहा कि सकारात्मक और प्रामाणिक पत्रकारिता के ही जरिए व्यक्ति और देश का विकास संभव है। पत्रकार की दिखाई सही दिशा देश का अपने शहर, राज्य और देश की दिशा तय करती है। यह बात उन्होंने जर्नलिस्ट एसोसिएशन ऑफ राजस्थान (जार) की उदयपुर जिला इकाई की ओर से यहां गुलाब बाग (सज्जननिवास उद्यान) स्थित सत्यार्थ प्रकाश नवलखा महल के सभागार में आयोजित पत्रकार सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में कही।  उन्होंने विकसित और विकासशील देशों के बीच अंतर को बताते हुए कहा कि किस तरह पत्रकारिता भारत को विकसित बना सकती है। पत्रकार ही विधायिका और सरकार को इन सबके बारे में काम करने की दिशा की ओर कदम उठाने के लिए मजबूर कर सकती है।  कार्यक्रम के मुख्य वक्ता भारतीय प्रसार भारती जुड़े पत्रकार विष्णु शर्मा ने कहा कि पत्रकारों के साथ जितनी चुनौतियां हैं, उतने ही अवसर। इसके लिए पत्रकार को बंधनों से मुक्त होना होगा। बंधन पत्रकारों की योग्यता को सीमित कर देता है। उन्होंने क

श्री कृष्ण बलराम मंदिर में मनाया गया नरसिंह चतुर्दशी महोत्सव

Image
जयपुर। हरे कृष्ण मूवमेंट जयपुर के जगतपुरा स्थित श्री कृष्ण बलराम मंदिर में नरसिंह चतुर्दशी महोत्सव मनाया गया। इस मौके पर मंदिर अध्यक्ष अमितासना दास ने बताया  कि इस उपलक्ष्य में विशेष नरसिंह यज्ञ का आयोजन किया गया।  इस मौके पर भक्तों द्वारा हरिनाम संकीर्तन गया। नरसिंह आरती की गई तथा भक्तों ने उपवास रखा एवं विशेष प्रार्थना की। भगवान को आकर्षक फूलों एवं नवीन पोशाक से सजाया गया। शाम को महाआरती के बाद भगवान की पालकी यात्रा निकली गई। इस अवसर पर महा संकीर्तन का आयोजन किया गया। यह सभी कार्यक्रम मंदिर के सोशल मीडिया चेनलों पर लाइव दिखाया गया  अंत में मंदिर में आये सभी भक्तो के लिए प्रसादी वितरण किया गया। मंदिर अध्यक्ष अमितासना दास ने बताया हिरण्यकश्यप के आतंक से भक्त प्रह्लाद की रक्षा करने के लिए भगवान नरसिंह देव आज ही के दिन खंभे से प्रकट होते हैं, वही भगवान श्री कृष्ण इस कलयुग में हम सबकी रक्षा करने के लिए और हमारा उद्धार करने के लिए उनके नाम के रूप में अवतरित हुए हैं। अतः आप सभी से निवेदन है कि भगवान के पवित्र नाम हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे, हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे का प्