Posts

Showing posts from August, 2020

Featured Post

स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर आमरस एवं भजनामृत गंगा कार्यक्रम का हुआ भव्य आयोजन

Image
जयपुर। स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के तत्वावधान में रविवार, 19 मई, 2024 को कांवटिया सर्कल पर भावपूर्ण भजन संध्या का आयोजन के साथ आमरस प्रसादी का वितरण किया गया।  कार्यक्रम में प्रतिभाशाली कलाकारों की आकाशीय आवाजें शांत वातावरण में गुंजायमान हो उठीं, जो उपस्थित लोगों के दिलों और आत्मा को छू गईं। इस अवसर पर स्थानीय जनप्रतिनिधि, आईएएस राजेंद्र विजय, एडिशनल एसपी पूनमचंद विश्नोई, सुरेंद्र सिंह शेखावत, अनिल शर्मा, के.के. अवस्थी, अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण सहित सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के अध्यक्ष राधेश्याम तंवर, उपाध्यक्ष श्रीमती मीना कंवर, मंत्री मेघना तंवर, कोषाध्यक्ष अजय सिंह तंवर एवं गणमान्य अतिथिगण उपस्थित रहे।

कोरोना संक्रमण को साहित्य सृजन से चुनौती - ऋतुराज

Image
- कलमकार मंच द्वारा प्रकाशित 27 किताबों का विमोचन जयपुर। देश की अग्रणी साहित्य संस्था कलमकार मंच की ओर से प्रकाशित देश के 27 लेखकों की किताबों के विमोचन समारोह में वरिष्ठ साहित्यकार ऋतुराज ने अपने संबोधन में वैश्विक आपदा कोरोना का जिक्र करते हुए कहा कि देश इस समय भीषण संक्रमण के दौर से गुजर रहा है, उसके समानान्तर साहित्यकार साहित्य सृजन के जरिये वैचारिक एवं साहित्यिक संक्रमण करके उसे चुनौती दे रहे हैं। एक साथ 27 साहित्यिक किताबों का प्रकाशन बहुत बड़ा संक्रमण है, ये साहित्यकारों के लिए कोरोना संक्रमण का वैक्सीन है। हम जिंदा रहना चाहते हैं, मनुष्य के रूप में जिंदा रहना चाहते हैं, मनुष्य होने के नाते वैचारिक, दार्शिनिक और भावनात्मक रूप से भी जिंदा रहना चाहते हैं। ये जद्दोजेहद एक बड़ी महामारी के विरूद्ध है। हालात बेकाबू हैं, लेकिन साहित्यकारों का काम है ऐसे समय विशेष में इतिहास लिखना, एक ऐसा दस्तावेज बनाना जो यह कहे कि मनुष्य कभी हारता नहीं। यूथ हाॅस्टल में आयोजित इस समारोह में देश के अनेक ख्यात साहित्यकारों के साथ कुछ नव साहित्य सृजकों की 27 किताबों का विमोचन वरिष्ठ साहित्यकार जितेन्द्र भाट

नेटथियेट पर पन्ना के बलिदानम ने जगाया राष्ट्रधर्म !

Image
जयपुर l  नेटथेट नेक्सट ऐरा थियेटर के मंच पर युवतरंग संस्कृत नाट्य दल के कलाकारों ने हिन्दी संस्कृत का अनूठा प्रयोग करते हुये ‘‘बलिदानम्’’ ने  पन्नाधाय की कथा को बहुत ही संजदगी और कोरोना की सरकारी गाइड लाइन की पालना के साथ प्रस्तुत किया। नेट थेट के राजेन्द्र शर्मा राजू ने बताया कि सामली पन्नाधाया को बताती है कि बनवीर ने साते हुये महाराणा विक्रमादित्य की हत्या कर दी। पन्ना समझ जाती है कि अब उदय के प्राणों को भी संकट है। सेवक के साथ पातलो में छिपा कर  कुंभलगढ़ भिजवा देती है और उदय के स्थान पर अपने पुत्र चंदन को सुला देती है, जिसे उदय समझ कर बनवीर  चंदन की हत्या कर देता है। नाटक में  अन्तिमबाला जैन  ने अपने दमदार अभिनय से पन्नाधाय के किरदार को जीवंत बना दिया किया। इस नाटक कि परिकल्पना, लेखन एवं निर्देशन दीपक भारद्वाज ने किया। दीपक कई संस्कृत नाटकों का निर्देशन कर चुकें है, लेकिन इस बार नेटथेट के दर्शकों के लिये हिन्दी संस्कृत का प्रयोग कर लोगों को संस्कृत से भी जोडने का सफल प्रयास किया।  नाटक  में सुत्रधार-अर्जुन देव, नटी-रविना, सामली-राधा, कीरत-रमेशराज, और बनवीर-दीपक भारद्वाज ने  अपने जीव

'बड़े गुरु' बने 'बाबू', फाइलें अटकाना चालू

Image
> उच्च शिक्षा विभाग में करीब 75 लेक्चरर कर रहे बाबू का काम, पिछले साल की फाइलें आज तक अटका रखी है... हरीश गुप्ता जयपुर। 'बाबू' यह नाम सुनने से लगता है कि बड़ा आदमी होगा। तीन-चार दशक पहले लोग पिताजी को बाबूजी कहते थे। मतलब बाबू शुरू से ही इज्जतदार और ताकतवर नाम होता था। शायद यही कारण है कि इस शब्द के झांसे में आकर लेक्चरर बाबू बन गए। पढ़ाने का कार्य छोड़ उन्हें 'बाबूगिरी' का काम रास आ रहा है। जानकारी के मुताबिक उच्च शिक्षा विभाग में करीब 75 लेक्चरर बाबू का काम कर रहे हैं। इनमें से आधे से ज्यादा अकेले कॉलेज शिक्षा निदेशालय में तैनात हैं। उधर कॉलेजों में कक्षाएं खाली, लेक्चरर के पद रिक्त पड़े हैं, लेकिन यहां इतनी भरमार है कि पूछो ही मत। लेक्चरर में किसी को डिप्टी डायरेक्टर तो किसी को ज्वाइंट डायरेक्टर का नाम दे रखा है। गलती से 1-2 फाइल इधर-उधर सरकाते हैं और हाजिरी पक गई। सूत्रों ने बताया कि यहां लगने वाले लेक्चरर ऊंची रसूखात वाले हैं। कोई मंत्री या पूर्व मंत्री की पत्नी या भाई तो कोई आईएएस या आईपीएस की पत्नी या भाई। जो ऊंचे रसूखात नहीं रखता वह 'व्यवस्था' करके यह

श्री कृष्ण बलराम मंदिर में श्री कृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव का होगा ऑनलाइन सेलिब्रेशन

Image
जयपुर। जगतपुरा स्थित श्री कृष्ण बलराम मंदिर में श्री कृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव का होगा ऑनलाइन सेलिब्रेशन, कोरोना काल में मंदिर से जुड़ेंगे  लाखो भक्त। इस साल जन्माष्टमी पर मंदिर में रात 12 बजे तक भक्तों की भीड़ के बीच भगवान का जन्मोत्सव नहीं होगा। इसे देखते हुए हरे कृष्ण मूवमेंट जयपुर सभी भक्तो को ऑनलाइन जोड़कर श्रीकृष्ण जन्मोत्सव मनायेगा । ठाकुर जी की पोषाक वृन्दावन से मंगवाई है, जो रेशम के कपड़े पर कढ़ाई कर बनाई गई है , जिसे वृन्दावन में 10 कारीगरों ने 15 दिनों में तैयार किया है। लाखो लोगों को जोड़ने की कोशिश... हर साल मंदिर में जन्माष्टमी मनाई जाती है। जिसमे अधिकतम एक से डेढ़ लाख लोग शामिल हो पाते हैं, लेकिन इस बार ऑनलाइन सेलिब्रेशन द्वारा हरे कृष्ण मूवमेंट जयपुर ने  दुनियाभर से लाखो लोगों को जोड़ने की योजना बनायीं है। अध्यक्ष श्री चंचला पति दास और मीडिया प्रभारी सिद्ध स्वरूप दास ने बताया इस साल कोविड-19 के चलते श्री कृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव भक्तो के साथ ऑनलाइन मनाया जाएगा एवं भगवन श्री कृष्ण का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए एवं उत्सव में भाग लेने के लिए सभी भक्त मंदिर के यूट्यूब चेंनल(Ha

भंवर पहुंचे, सियासी संकट दूर

- पायलट गुट वापस लौटा, कोर्ट के फैसले के बाद मंत्रिमंडल विस्तार हरीश गुप्ता जयपुर। सचिन पायलट गुट के चाणक्य भंवर लाल शर्मा के मुख्यमंत्री आवास पर पहुंचने के साथ ही करीब 1 महीने से चल रहा सियासी संकट दूर हो गया। संभावना जताई जा रही है कि मंगलवार तक सभी असंतुष्ट विधायक घर लौट आएंगे। जानकारी के मुताबिक सोमवार को सचिन पायलट ने दिल्ली में पार्टी आलाकमान राहुल गांधी और प्रियंका वाड्रा से मुलाकात की थी। बताया जाता है उन्हें संकेत दिए गए पहले आप घर वापसी करें सब ठीक हो जाएगा। उधर पायलट गुट के विधायक भी वहां बैठे-बैठे परेशान हो चुके थे, वह तो कई बार कोई रास्ता निकालने का दबाव बना रहे थे। जानकारी के मुताबिक सोमवार शाम पायलट गुट के चाणक्य भंवर लाल शर्मा मुख्यमंत्री आवास पहुंचे। करीब आधे घंटे चर्चा के बाद वे बिना किसी से बात किए वहां से चल दिए। सूत्रों की मानें तो पायलट गुट की शुरू से ही मांग थी कि सीएम बदला जाए, लेकिन पार्टी सुप्रीमो इसके लिए तैयार नहीं थी। उधर 14 अगस्त नजदीक आते देख पायलट गुट को डर था कि पार्टी कि व्हिप के खिलाफ गए तो 6 साल के लिए अयोग्य घोषित कर दिए जाएंगे। उधर संख्या कम होने

करंट से 'मारने' पर आमादा विद्युत विभाग! !

Image
- मकानों के ऊपर से डाल दी सर्विस लाइन, ग्रामीण दहशत में... जयपुर। जयपुर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड अपने काम पर निरंतर ध्यान दे रहा है कि कोई अंधेरे में ना रहे। इसके लिए वह यह भी भूल जाता है कि उक्त जगह लाइन दी भी जा सकती है या नहीं। जैसे पृथ्वीराज नगर में अवैध रूप से लाइनें बिछी हुई है तो जमवारामगढ़ के ताला में मकानों के ऊपर से ही लाइन डाल दी। जानकारी के मुताबिक जमवारामगढ़ क्षेत्र के ताला गांव में विभाग ने जो लाइन डाली उसमें इस बात को भी नहीं देखा गया कि लाइन कोई मकान को क्रॉस तो नहीं कर रही। यह तो तब है, जबकि स्थानीय ग्रामीण इसका विरोध करते रहे और विभाग के कारिंदे लाइन डाल कर चले गए। यहां के हालात देखने मात्र से साफ हो जाता है कि लाइन बिछाते समय कैसे घास काट दी गई होगी। विभाग के लाइन डालने वालों को यह कतई फिक्र नहीं रही कि कभी कोई हादसा हो सकता है। हालात यह है की बिजली के तार मकानों की छतों को छूते हुए निकल रहे हैं। मकान वालों ने करंट से डर के मारे लकड़ी की बल्लियों से तार को ऊपर कर रखा है। कई बार तेज हवा या आंधी से बल्लियां गिर जाती हैं और तार छतों के चरण स्पर्श कर लेते हैं। जानकारी

पृथ्वीराज नगर - जेवीवीएनएल के सभी नियम फेल

> हर 25 मकानों में से एक मकान में बिजली सप्लाई का केंद्र, इंजीनियरों के हो रहे मजे हरीश गुप्ता जयपुर। जयपुर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के बिजली चोरी के दावे पृथ्वीराज नगर (पीआर एन) में आकर पूरी तरह फेल हो जाते हैं। निगम को पता ही नहीं यहां हर 20-25 घरों में से एक घर में विद्युत सप्लाई केंद्र बना हुआ है। यह केंद्र 2 गुने दाम पर बिजली सप्लाई करता है। इन सब में सीधी मिलीभगत क्षेत्रीय इंजीनियर की होने से इनकार नहीं किया जा सकता है। गौरतलब है 'आगाज़ केसरी' ने  'इंजीनियर की शह पर हो रही बिजली चोरी' के शीर्षक से एक समाचार प्रमुखता से प्रकाशित किया था। समाचार में बताया गया था कि यहां गोविंद नगर में पिछले 5 साल से खुले रुप से बिजली चोरी हो रही है। हर महीने रुपए जाते भी हैं, लेकिन रुपए कहां जाते हैं वह किसी को पता नहीं। इसलिए कार्रवाई होती है तो नाम मात्र की। जानकारी के मुताबिक समाचार के समय जेवीवीएनएल के प्रबंध निदेशक एके गुप्ता ने कहा था कि ऐसा संभव नहीं है, लेकिन कार्रवाई हुई तो उन्हें भी पता चल गया। यह भी तय है कि उनके निर्देश पर ही कार्रवाई हुई, लेकिन कार्रवाई को आज 5 दिन

बाड़ेबंदी का नया नाम 'धार्मिक यात्रा' !

- भाजपा के कुछ विधायकों को गुजरात भेजा गया हरीश गुप्ता जयपुर। कहते हैं सोते शेर को जगाना नहीं चाहिए, लेकिन यहां तो भाजपा के कुछ नेताओं ने नींद से जागे शेर को उकसा कर मुसीबत मोल ले ली। जहां पार्टी में अभी जरूरत नहीं थी फिर भी बाड़ेबंदी करने की नौबत आ गई। अब झेंप मिटाने के लिए तर्क दिए जा रहे हैं कि धार्मिक यात्रा पर जा रहे हैं। गौरतलब है 8 अगस्त के अंक में इस संबंध में एक समाचार प्रकाशित किया था। समाचार में बताया गया था कि भाजपा में बाड़ेबंदी हो सकती है। गौरतलब यह भी है शनिवार को सांगानेर हवाई अड्डे से 6 विधायकों को रवाना किया जा रहा था तब एक विधायक से सवाल किया गया कि कहां जा रहे हैं? इस पर जवाब मिला धार्मिक यात्रा पर। जब पूछा गया कि कहां के लिए? तब जवाब आया कि जहां का सस्ता टिकट मिल जाएगा वहीं चले जाएंगे। साहब जवाब देते वक्त भूल गए कि चार्टर प्लेन में टिकट कौन काटेगा? क्या कोई 'बड़ा कंडक्टर' भी भीतर पहले से मौजूद था? जानकारी के मुताबिक आम आदमी यह जानना चाह रहा है कि भाजपा में बाड़ेबंदी की जरूरत क्यों आन पड़ी? दरअसल 30 के सपने दिखाने वाली घड़ी की सुई 19 पर जाकर अटक गई। ऐसे में

कलमकार पुरस्कारों की घोषणा, नितिन यादव को कहानी , एएफ. नजर को कविता और पंखुरी सिन्हा को बंकट बिहारी पागल सम्मान

Image
कलमकार पुरस्कारों की घोषणा... > नितिन यादव ‘कहानी’ और ए.एफ.नज़र ‘कविता’ श्रेणी में प्रथम > बंकट बिहारी ‘पागल’ सम्मान पंखुरी सिन्हा को जयपुर। देश की अग्रणी साहित्य संस्था कलमकार मंच की ओर से राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिवर्ष आयोजित की जाने वाली कलमकार पुरस्कार प्रतियोगिता के वर्ष 2019-20 के विजेताओं की घोषणा शनिवार को कलमकार मंच के राष्ट्रीय संयोजक निशांत मिश्रा, वरिष्ठ पत्रकार एवं साहित्यकार ईशमधु तलवार, प्रलेस के प्रदेशाध्यक्ष ऋतुराज, जितेन्द्र भाटिया, मुख्यमंत्री के विशेषाधिकारी फारूक आफरीदी और युवा साहित्यकार एवं कलमकार मंच की संस्थापक सदस्य उमा ने फेसबुक लाइव के जरिये की। इस वर्ष कहानी एवं लघुकथा श्रेणी में प्रथम पुरस्कार अलवर जिले के नितिन यादव की कहानी ‘नोटा’ और गीत, ग़ज़ल, कविता श्रेणी में प्रथम पुरस्कार पिपलाई, सवाई माधोपुर के ए.एफ. नज़र लिखित ‘ग़ज़ल’ को दिया जाएगा। निर्णायक मंडल के निर्णय के अनुसार कहानी एवं लघुकथा श्रेणी में द्वितीय पुरस्कार देवास, मध्यप्रदेश की मीनाक्षी दुबे की कहानी ‘तरल’ और तृतीय पुरस्कार क्रमश: रांची, झारखंड की सारिका भूषण की लघुकथा ‘बोल्डनेस’, जयपुर के न

इंजीनियर की शह पर हो रही बिजली चोरी !

- मानसरोवर के गोविंद नगर में बंगलों-कोठियों में मुफ्त की बिजली से चल रही एसी और लाइट हरीश गुप्ता जयपुर। 'मुफ्त का चंदन घिस मेरे नंदन' यह तो आपने खूब सुना है। वह अलग बात है कोरोना ने इन दिनों इस पर ब्रेक लगा दिया है। क्योंकि मंदिर और भगवान तालाबंदी की चपेट में हैं। मुफ्त की बिजली वह भी सीना चौड़ा करके यह नहीं सुना होगा। मानसरोवर के गोविंद नगर में ऐसा ही हो रहा है। यह खेल चल भी करीब 5 वर्षों से रहा है। अकेले इस कॉलोनी में अभी तक करोड़ों की बिजली चोरी हो चुकी,  लेकिन जेवीवीएनएल को कोई परवाह ही नहीं है। जानकारी के मुताबिक गोविंद नगर की बसावट 200 फीट और 90 फीट से लगते हुए हैं। यहां करीब 55 बंगलों या कोठियां बनी हुई है। जिस भू कारोबारी ने इसे बसाने की तैयारी कि उसका काश्तकार से लेनदेन को लेकर विवाद हो गया। विवाद शुरू होता उससे पहले बिजली विभाग ने सरकारी पोल गाड़ दिए। काश्तकार और भू-कारोबारी के बीच क्या विवाद यह तो वही जाने, लेकिन इस बीच जिसकी लाठी में दम था उसने बंगला ठोक दिया। जानकारी के मुताबिक इस विवाद के बीच भू कारोबारी ने कुछ सस्ते में प्रभावशाली लोगों को प्लॉट बेच दिए। उसने शक्

शराबबंदी पर सरकार निभाये अपना वादा, नही तो होगा विधानसभा का घेराव - पूनम अंकुर छाबड़ा

जयपुर। प्रदेश में चल रहे राजनीतिक संकट और 14 अगस्त से विधानसभा सत्र आहूत करने की तैयारी के साथ ही सरकार को अब सम्पूर्ण शराबबंदी समर्थकों से भी होगा झूझना। राजस्थान में शराब बंदी हेतू अनशन करते हुए अपने प्राणो का बलिदान देने वाले हुतात्मा गुरुशरण जी छाबड़ा साहब के साथ हुए लिखित समझोतों को सरकार द्वारा बार बार दरकीनर करने से खफा सम्पूर्ण शराबबंदी आन्दोलन की अगुआ जस्टिस फ़ॉर छाबड़ा जी संगठन की राष्ट्रीय अध्यक्ष पूनम अंकुर छाबड़ा ने मुख्यमंत्री को पत्र भेज शराबबंदी की अपनी मांग को दोहराते हुए विधानसभा घेराव की चेतावनी दी है। पूनम अंकुर छाबड़ा ने पत्र में लिखा है की 6 नवंबर 2016 के राज्य सरकार बनाम पूनम अंकुर छाबड़ा के अनशन के दौरान हुए लिखित समझोतों को भी सरकार लागू नहीं कर रही है वही पूनम अंकुर छाबड़ा के अनशन में दौरान आबकारी कमेटी व राज्य स्तरीय कमेटी की मीटिंग हर माह होनी थी, जिसे सरकार ने एक बार भी नहीं  बुलाई जो सरकार के द्वारा किये समझौते का उलंघन है और बार बार सरकार शराब बन्दी की मांग को अनदेखा कर रही हे । इस वैश्विक आपदा के दौर में भी आज शराब की बिक्री गहलोत सरकार के राज में 24 घंटे चा

हरे कृष्ण मूवमेंट जयपुर के श्री कृष्ण बलराम मंदिर में बलराम जयंती धूमधाम से मनाई गई

Image
जयपुर।  जगतपुरा स्थित श्री कृष्ण बलराम मंदिर में सोमवार को बलराम जयंती धूमधाम से मनाई गई। इस अवसर पर श्री कृष्ण बलराम को नव पोषाक धारण कराये  एवं 108 भोग अर्पित  किये गए | भगवान का विशेष अभिषेक किया गया एवं कीर्तन के साथ पालकी उत्सव मनाया गया  | लॉक डाउन के चलते भक्तो ने  मंदिर के यूट्यूब (HarekrishnaJaipur) , फेसबुक चैनल के माध्यम से कार्यक्रम में ऑनलाइन भाग लिया | श्री कृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव के लिए तैयारिया प्रारंभ मीडिया प्रभारी सिद्ध स्वरूप दास ने बताया कि श्री कृष्ण जन्माष्टमी महामहोत्सव के लिए भी तैयारिया प्रारंभ हो चुकी है |  श्री कृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव में देश-विदेश से भक्त ऑनलाइन भाग ले पाएंगे | कार्यक्रम संस्कार टीवी , यूट्यूब और फेसबुक के माध्यम से 12 अगस्त को रात्रि 10 बजे से श्री कृष्ण बलराम के दर्शन, महाअभिषेक, पालकी उत्सव एवं प्रसिद्ध कलाकारों द्वारा गाए गए कृष्ण भजन घर बठे देख सकेंगे|

कोरोना तय करेगा राजनीतिक भविष्य....

Image
> पॉजिटिव आने पर फ्लोर टेस्ट से रोका जा सकता है हरीश गुप्ता जयपुर। अगस्त का महीना शुरू होते ही सभी को इंतजार रहता है स्वतंत्रता दिवस का। राजनीति से जुड़े लोगों को इस बार 15 से ज्यादा इंतजार 14 अगस्त का है। कारण उस दिन से विधानसभा का सत्र शुरू होना है। शायद यह किसी को पता नहीं कि एक चौथा खेमा ऐसा है जो सभी के होश उड़ा सकता है। चौथा खेमा कोरोना वायरस है। जी हां राजस्थान की राजनीति अब कोरोना तय करेगा। गौरतलब है उत्तर प्रदेश में एक मंत्री की कोरोना से मौत हो चुकी है। एजेंसी के मुताबिक केंद्रीय मंत्री अमित शाह भी पॉजिटिव आ गए हैं। वैसे भी जो पॉजिटिव आया उसे सदन में प्रवेश की अनुमति नहीं मिलेगी। हालांकि यह निर्भर करता है विधानसभा अध्यक्ष के फैसले पर। जानकारी के मुताबिक राजनीतिक गलियारों में चर्चाएं जोरों पर है, 'अगर विधानसभा अध्यक्ष ने सभी विधायकों की कोविड-19 जांच करवा दी तो कोरोना राजनीतिक संकट पैदा कर सकता है।' जो फ्लोर टेस्ट के सपने देख रहे हैं कोरोना उनके सपने तोड़ सकता है। वर्तमान में राजस्थान का राजनीतिक संकट अभी गहराया हुआ है। इसमें गहलोत, सचिन और भाजपा के बीच कोरोना बड़ा

बिजली का पूरा डाटा निजी हाथों में !

Image
> कंपनी ने किया बड़ा फर्जीवाड़ा फिर भी दे दिया टेंडर > रीडिंग लेने से लेकर बिल देने का काम कंपनी के पास हरीश गुप्ता जयपुर। धन्य है राज्य का बिजली महकमा। बिजली का पूरा डाटा निजी हाथों में दे रखा है, फिर भी अधिकारी मुंगेरीलाल के हसीन सपने देख रहे हैं और कह रहे हैं पूरे नियंत्रण हमारे पास ही हैं। यह तो तब है, जबकि कंपनी ने बड़ा फर्जीवाड़ा कर टेंडर हथिया लिया। सूत्रों ने बताया कि बिजली मित्र डॉट कॉम यह सरकारी वेबसाइट है, जिसमें राज्य के प्रत्येक उपभोक्ता का बिजली उपभोग का डाटा रहता है, उसका मालिकाना हक सरकार के पास ही नहीं है। दरअसल यह टेंडर सितंबर 2017 में हैदराबाद की कंपनी बीसीआईटीएस को दे दिया था। सूत्रों की मानें तो उस समय विभाग में मौजूद एक आला अधिकारी को सरकार की पूरी योजना की जानकारी थी। दूसरे शब्दों में कहें तो योजना ही वही तैयार करते थे। उधर बीसीआईटीएस कंपनी ने जून 2017 में ही इस नाम का डोमिन अपने नाम से और अपने अधिकार में ले लिया। अब सवाल खड़ा होता है कंपनी को कैसे सपना आया कि राजस्थान के विद्युत विभाग को इस नाम के डोमिन की जरूरत पड़ने वाली है? सीधा सा शक जाता है कि तत्काल