Featured Post

स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर आमरस एवं भजनामृत गंगा कार्यक्रम का हुआ भव्य आयोजन

Image
जयपुर। स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के तत्वावधान में रविवार, 19 मई, 2024 को कांवटिया सर्कल पर भावपूर्ण भजन संध्या का आयोजन के साथ आमरस प्रसादी का वितरण किया गया।  कार्यक्रम में प्रतिभाशाली कलाकारों की आकाशीय आवाजें शांत वातावरण में गुंजायमान हो उठीं, जो उपस्थित लोगों के दिलों और आत्मा को छू गईं। इस अवसर पर स्थानीय जनप्रतिनिधि, आईएएस राजेंद्र विजय, एडिशनल एसपी पूनमचंद विश्नोई, सुरेंद्र सिंह शेखावत, अनिल शर्मा, के.के. अवस्थी, अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण सहित सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के अध्यक्ष राधेश्याम तंवर, उपाध्यक्ष श्रीमती मीना कंवर, मंत्री मेघना तंवर, कोषाध्यक्ष अजय सिंह तंवर एवं गणमान्य अतिथिगण उपस्थित रहे।

पृथ्वीराज नगर - जेवीवीएनएल के सभी नियम फेल

> हर 25 मकानों में से एक मकान में बिजली सप्लाई का केंद्र, इंजीनियरों के हो रहे मजे
हरीश गुप्ता
जयपुर। जयपुर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के बिजली चोरी के दावे पृथ्वीराज नगर (पीआर एन) में आकर पूरी तरह फेल हो जाते हैं। निगम को पता ही नहीं यहां हर 20-25 घरों में से एक घर में विद्युत सप्लाई केंद्र बना हुआ है। यह केंद्र 2 गुने दाम पर बिजली सप्लाई करता है। इन सब में सीधी मिलीभगत क्षेत्रीय इंजीनियर की होने से इनकार नहीं किया जा सकता है।



गौरतलब है 'आगाज़ केसरी' ने  'इंजीनियर की शह पर हो रही बिजली चोरी' के शीर्षक से एक समाचार प्रमुखता से प्रकाशित किया था। समाचार में बताया गया था कि यहां गोविंद नगर में पिछले 5 साल से खुले रुप से बिजली चोरी हो रही है। हर महीने रुपए जाते भी हैं, लेकिन रुपए कहां जाते हैं वह किसी को पता नहीं। इसलिए कार्रवाई होती है तो नाम मात्र की।



जानकारी के मुताबिक समाचार के समय जेवीवीएनएल के प्रबंध निदेशक एके गुप्ता ने कहा था कि ऐसा संभव नहीं है, लेकिन कार्रवाई हुई तो उन्हें भी पता चल गया। यह भी तय है कि उनके निर्देश पर ही कार्रवाई हुई, लेकिन कार्रवाई को आज 5 दिन हो गए विभाग के इंजीनियर यह बताने को तैयार नहीं की कार्रवाई किन-किन के यहां हुई? साथ ही कितने की वीसीआर भरी गई? वैसे बिजली चोरी में मुकदमा दर्ज करवाने का भी प्रावधान है, लेकिन वह इसलिए नहीं किया जाता कि मिलीभगत की पोल ना खुल जाए।



सूत्रों ने बताया कि विभाग में मलाईदार पोस्टिंग औद्योगिक क्षेत्र की मानी जाती रही है, लेकिन पीआरएन क्षेत्र की पोस्टिंग तो मलाई और मक्खन दोनों वाली है। थोड़े दिन भी जो यहां रह गया उसके दिन फिर जाते हैं। सवाल उठता है भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की नजरों से ऐसे लोग आज तक कैसे बचे हुए हैं? एसीबी को उन सभी की संपत्तियां चेक करनी चाहिए जो ऐसी जगह नौकरी कर चुके हैं।



सूत्रों ने बताया कि दबाव पड़ने पर वीसीआर भरी जाती है चोरी करने वाले की। जो चोरी करवा रहा है उसका कुछ नहीं। जिसने करोड़ों रुपए लगाकर बंगला तैयार कर लिया वह तो बिजली काम में लेगा ही। चोर को क्यों मारा जाता है चोर की 'मां' को क्यों नहीं? खुद की जेब की चिंता के आगे सरकारी खजाने की चिंता सब भूल जाते हैं।



सवाल सबसे बड़ा खड़ा होता है कि आखिर मकान बन कैसे गए? जेडीए, नगर निगम और पुलिस के अधिकारी कौन-कौन है जिन्होंने 'भेंट' लेकर मकान बनने दिए? उनके खिलाफ आज तक कुछ नहीं हुआ। 



जानकारी के मुताबिक पृथ्वीराज नगर में लोगों में चर्चाएं इस बात की होती है, 'यहां कोई जेवीवीएनएल नहीं, सैकड़ों बिजली सप्लाई के केंद्र बने हुए हैं, जो 20 से 25 घरों में सप्लाई देते हैं। हर बिजली सप्लाई वाला अपने घर का 'एमडी' है।


Comments

Popular posts from this blog

आम आदमी पार्टी के यूथ विंग प्रेसिडेंट अनुराग बराड़ ने दिया इस्तीफा

दी न्यू ड्रीम्स स्कूल में बोर्ड परीक्षा में अच्छी सफलता पर बच्चों को दिया नगद पुरुस्कार

1008 प्रकांड पंडितों ने किया राजस्थान में सबसे बड़ा धार्मिक अनुष्ठान