Posts

Showing posts from December, 2019

Featured Post

स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर आमरस एवं भजनामृत गंगा कार्यक्रम का हुआ भव्य आयोजन

Image
जयपुर। स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के तत्वावधान में रविवार, 19 मई, 2024 को कांवटिया सर्कल पर भावपूर्ण भजन संध्या का आयोजन के साथ आमरस प्रसादी का वितरण किया गया।  कार्यक्रम में प्रतिभाशाली कलाकारों की आकाशीय आवाजें शांत वातावरण में गुंजायमान हो उठीं, जो उपस्थित लोगों के दिलों और आत्मा को छू गईं। इस अवसर पर स्थानीय जनप्रतिनिधि, आईएएस राजेंद्र विजय, एडिशनल एसपी पूनमचंद विश्नोई, सुरेंद्र सिंह शेखावत, अनिल शर्मा, के.के. अवस्थी, अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण सहित सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के अध्यक्ष राधेश्याम तंवर, उपाध्यक्ष श्रीमती मीना कंवर, मंत्री मेघना तंवर, कोषाध्यक्ष अजय सिंह तंवर एवं गणमान्य अतिथिगण उपस्थित रहे।

मुख्यमंत्री गहलोत बोले- घूंघट हो या बुर्का आधुनिक समाज में इसका क्या तुक?

जयपुर.  बुधवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निवास पर गुरु नानक साहब के 550वें आगमन पर शब्द कीर्तन आयोजित किया गया। इस मौके पर गहलोत ने महिला सशक्तिकरण की बात की। उन्होंने कहा- अब घूंघट हटाओ का अभियान चलना चाहिए। देशभर की महिलाओं को इसके लिए आगे आना चाहिए। गहलोत ने कहा कि सिर्फ महिलाओं को नहीं बल्कि इस प्रथा को खत्म करने के लिए उनसे ज्यादा पुरुष को आगे आना चाहिए। क्योंकि, पुरुष प्रधान मुल्क होने से दबाव रहता है। इस कारण महिला को घूंघट निकालना पड़ता है। घूंघट हो या बुर्का। आधुनिक युग में जहां दुनिया चांद तक पहुंच रही है, मंगल ग्रह पर जा रही है वहां पर इसका क्या तुक है? मुख्यमंत्री ने कहा कि जिनकी कोख से हम सब पैदा हुए उन महिलाओं को सम्मान देना हमारा परम धर्म बनता है। राजस्थान जैसे प्रदेश के अंदर घूंघट प्रथा है, एक महिला को आप घूंघट में कैद रखो यह कहां की समझदारी है? हम विज्ञान के युग में हैं। मोबाइल फोन है और दुनिया मुट्ठी में है। वहीं एक महिला घूंघट में कैद रहती है। कल्पना करो क्या बीतती होगी? उन्होंने कहा कि गुरुनानक देव जी ने उस जमाने के अंदर महिलाओं की बात की। उन्होंने हिंदू मुस्लिम

106 दिन बाद पी. चिदंबरम को जमानत मिलने पर मुख्यमंत्री गहलोत बोले- आखिर सच समाने आ ही गया

Image
जयपुर.  आईएनएक्स मीडिया केस में आरोपी पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम (74) को सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को मनी लॉन्ड्रिंग केस में सशर्त जमानत दी। इसके बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने लिखा- मैं पूर्व मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी. चिंदबरम को 100 दिन से अधिक जेल में रहने के बाद जमानत देने के माननीय सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करता हूं। आखिर सच समाने आ ही गया। सीएम अशोक गहलोत का ट्वीट: Ashok Gehlot   ✔ @ashokgehlot51     I welcome the Honourable SC's decision to grant bail to former Central Minister and senior Congress leader #PChidambaram ji after more than a 100 days in jail. Truth finally prevails.   2,300 11:07 am - 4 दिस॰ 2019 Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता  

12 शहरों में तापमान 10 डिग्री से नीचे, फतेहपुर सबसे ठंडा, पारा 1.5 डिग्री

जयपुर | प्रदेश में अब रात का पारा लगातार गिरने लगा है। बीते चाैबीस घंटे में ही 12 स्थानाें पर न्यूनतम तापमान 10 डिग्री से नीचे अा गया। सीकर जिले का फतेहपुर लगातार दूसरे दिन सबसे ठंडा रहा। बीती रात यहां पारा 2.5 डिग्री लुढ़ककर 1.5 डिग्री दर्ज हुअा। जयपुर में भी इस सीजन में पहली बार न्यूनतम तापमान 9.6 डिग्री दर्ज हुअा।  रात का तापमान गिरने अाैर हवा में ठंडक घुलने से दिन में ठिठुरन व गलन बढ़ने लगी है। सुबह के दाैरान कुछ स्थानाें पर काेहरा भी छाया रहा। माैसम विभाग के अनुसार अगले चाैबीस घंटे में माैसम शुष्क रहने की संभावना है।  इन शहराें में 10 डिग्री से नीचे रहा पारा फतेहपुर 1.5,  चूरू में 6.2, बीकानेर 9.0, अाबू 5.4, एरिन राेड 9.0, चित्तौड़गढ़ 9.5, सीकर 5.0, पिलानी 7.3, जयपुर 9.6, अलवर 6.0, वनस्थली 8.7 और भीलवाड़ा में 7.6 डिग्री सेल्सियस रहा।  24 घंटे में कहां, कितनी गिरावट : शहर     न्यूनतम पारा     गिरावट जयपुर     9.6     2.4 वनस्थली     8.7     3.8  चित्ताैड़गढ़     9.5     5.3 पिलानी     7.3     0.6 माउंट आबू     5.4     2.0  चूरू     6.2     1.2

कंपनियां नहीं दिखा रही हैं रुचि, चौथी बार फिर मांगे आवेदन

जयपुर.  प्रदेश में करोड़ों के स्वास्थ्य बीमा के भुगतान और क्लेम बिल रोकना का विवाद इतना बढ़ चुका है कि सरकार को 2 साल के प्रोजेक्ट के नए आवेदन के लिए चौथी बार तिथि आगे बढ़ानी पड़ी। पिछले डेढ़ माह से पुरानी कंपनी को बाहर करने और नई कंपनी को पूरे राजस्थान के करीब 1.10 करोड़ परिवारों के स्वास्थ्य बीमा क्लेम पास करने की जिम्मेदारी के लिए आवेदन मांगने का खेल चल रहा है।  टेंडर भी ऑनलाइन मांगे जा रहे हैं, लेकिन सरकार को भय है कि कहीं पुरानी कंपनी के अलावा कोई नई कंपनी नहीं आई तो सरकार को मजबूरन उसी को फिर 2 साल के लिए काम देना पड़ेगा। पहले से 2015 से न्यू इंडिया एस्योरेंस कंपनी (एनआईए) की स्वास्थ्य बीमा का काम देख रही है। नई कंपनी के चयन की बिड बार बार आगे बढ़ाने से सरकार न तो एनआईए को बाहर कर पा रही है न नई कंपनी का चयन हो पा रहा है लिहाजा शर्तों के अनुसार पुरानी का कार्यकाल ही एक-एक माह आगे बढ़ाने की बाते की जा रही है। गौरतलब है कि हर साल करीब 900 से 1100 करोड़ रुपए आयुष्मान भारत महात्मा गांधी राजस्थान स्वास्थ्य बीमा योजना के माध्यम से जनता के नि:शुल्क इलाज, जांच पर खर्च किए जाते हैं, जिसके