Featured Post

स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर आमरस एवं भजनामृत गंगा कार्यक्रम का हुआ भव्य आयोजन

Image
जयपुर। स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के तत्वावधान में रविवार, 19 मई, 2024 को कांवटिया सर्कल पर भावपूर्ण भजन संध्या का आयोजन के साथ आमरस प्रसादी का वितरण किया गया।  कार्यक्रम में प्रतिभाशाली कलाकारों की आकाशीय आवाजें शांत वातावरण में गुंजायमान हो उठीं, जो उपस्थित लोगों के दिलों और आत्मा को छू गईं। इस अवसर पर स्थानीय जनप्रतिनिधि, आईएएस राजेंद्र विजय, एडिशनल एसपी पूनमचंद विश्नोई, सुरेंद्र सिंह शेखावत, अनिल शर्मा, के.के. अवस्थी, अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण सहित सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के अध्यक्ष राधेश्याम तंवर, उपाध्यक्ष श्रीमती मीना कंवर, मंत्री मेघना तंवर, कोषाध्यक्ष अजय सिंह तंवर एवं गणमान्य अतिथिगण उपस्थित रहे।

श्री कृष्ण बलराम मंदिर में मनाया गया पानीहाटी चिड़ा दही महोत्सव

जयपुर। जगतपुरा स्थित अक्षय पात्र के श्री कृष्ण बलराम मंदिर में पानीहाटी चिड़ा दही महोत्सव मनाया गया। यह एक विशेष त्यौहार है इसमें  दूध, दही और पोहा (चिड़ा) से विभिन्न व्यंजनों को तैयार करके ठाकुर जी को भोग लगाया जाता है।

इस अवसर पर ठाकुर जी का विशेष श्रृंगार किया गया एव 1500 आम से मंदिर के गर्भ गृह में विशेष झांकी सजाई गई। प्राचीन वृंदावन के 6 गोस्वामी में से एक रघुनाथ दास गोस्वामी आज ही के दिन भगवान को इस प्रकार का विशेष भोग लगाते हैं एवं भगवान की कृपा प्राप्त करते हैं।  

यह पश्चिम बंगाल में कोलकाता के पास पानीहाटी नाम के एक गाँव में पहली बार श्री नित्यानंद प्रभु के साथ श्रील रघुनाथ दास गोस्वामी की मुलाकात के उपलक्ष्य में पानीहटी चिड़ा-दही उत्सव मनाया जाता है। श्रील रघुनाथ दास को नित्यानंद प्रभु से दंड मिला कि उनको यहाँ आये सभी हजारों भक्तो के लिए चिड़ा-दही प्रसादम की व्यवस्था करनी है यह सुनकार श्री रघुनाथ दास गोस्वामी अत्यधिक प्रसन्न हुए और अत्यधिक मात्रा चिड़ा-दही प्रसादम व्यवस्था की एवं भगवान को भोग लगाया  तब से इस त्योहार को दंड महोत्सव (दंड का त्योहार) के रूप में भी जाना जाता है। यह ज्येष्ठ (मई-जून) के महीने में शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी को मनाया जाता है। 

मंदिर के अध्यक्ष श्री अमितासना दास ने बताया कि मंदिर परिसर में एक विशेष कुंड का निर्माण किया गया जहां पर भगवान को पालकी से ले जाया गया एवं जलविहार करवाया गया एवं पंचामृत अभिषेक किया गया साथ ही महाआरती एवं महासंकीर्तन का आयोजन भी किया गया। इस पूरे कार्यक्रम को मंदिर के ऑफिशियल फेसबुक पेज और युटुब चैनल हरे कृष्ण जयपुर पर लाइव के माध्यम से लोगों तक पहुंचाया  गया। मंदिर में पाण्डव निर्जला एकादशी के अवसर पर 11 जून को  जप-मैराथन आयोजित किया गया। इसमें पुरे भारत से सैकड़ों भक्तो ने भाग लिया और हरे कृष्ण महा मंत्र “ हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे ”की 64 से अधिक मालाये की और पुरे दिन उपवास रखा। सभी भक्तो को प्रमाण पत्र दिया गया।

◾️ठाकुर जी के जल विहार का देखें वीडियो...



Comments

Popular posts from this blog

आम आदमी पार्टी के यूथ विंग प्रेसिडेंट अनुराग बराड़ ने दिया इस्तीफा

दी न्यू ड्रीम्स स्कूल में बोर्ड परीक्षा में अच्छी सफलता पर बच्चों को दिया नगद पुरुस्कार

1008 प्रकांड पंडितों ने किया राजस्थान में सबसे बड़ा धार्मिक अनुष्ठान