Featured Post

स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर आमरस एवं भजनामृत गंगा कार्यक्रम का हुआ भव्य आयोजन

Image
जयपुर। स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के तत्वावधान में रविवार, 19 मई, 2024 को कांवटिया सर्कल पर भावपूर्ण भजन संध्या का आयोजन के साथ आमरस प्रसादी का वितरण किया गया।  कार्यक्रम में प्रतिभाशाली कलाकारों की आकाशीय आवाजें शांत वातावरण में गुंजायमान हो उठीं, जो उपस्थित लोगों के दिलों और आत्मा को छू गईं। इस अवसर पर स्थानीय जनप्रतिनिधि, आईएएस राजेंद्र विजय, एडिशनल एसपी पूनमचंद विश्नोई, सुरेंद्र सिंह शेखावत, अनिल शर्मा, के.के. अवस्थी, अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण सहित सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के अध्यक्ष राधेश्याम तंवर, उपाध्यक्ष श्रीमती मीना कंवर, मंत्री मेघना तंवर, कोषाध्यक्ष अजय सिंह तंवर एवं गणमान्य अतिथिगण उपस्थित रहे।

प्लास्टिक प्रदूषणः एक गहरा पर्यावरणीय संकट


धुनिकता और प्रगति के इस दौर में मानव सभ्यता ने विकास के कई आयामों को हासिल किया है। मानव जीवन दिन ब दिन सुगमता को प्राप्त करने के लिए प्रयासरत है। लेकिन जीवन को सुगम और सरल बनाने कि ये दौड़ जाने अनजाने कब दृश्टिहीन हो गयी इसका हमें पता ही नहीं चला और सुगमता ने कुछ चुनौतियां भी हमारे सामने खड़ी कर दी है। दुर्भाग्यवष इन चुनौतियों के जनक भी हम इंसान ही है। विकास की इस दौड़ में हमारे सामने एक गंभीर संकट के रूप में सामने आया प्लास्टिक। हमारे जीवन में प्लास्टिक की सर्वव्यापकता ने एक गंभीर पर्यावरणीय संकट पैदा कर दिया है, जिस पर तत्काल ध्यान देने और ठोस कार्रवाई की आवश्यकता है। प्राचीन महासागरों से लेकर दूरदराज के जंगली क्षेत्रों तक, प्लास्टिक कचरा हमारे ग्रह के हर कोने में घुस गया है, जिससे तबाही का निशान बन गया है।


प्लास्टिक, जिसे कभी आधुनिक नवाचार के चमत्कार के रूप में जाना जाता था, अब हमारी बेकार संस्कृति का प्रतीक बन गया है। प्लास्टिक प्रदूषण कोई नई घटना नहीं है, लेकिन हाल के दिनों में इसका परिमाण अभूतपूर्व स्तर पर पहुंच गया है। प्लास्टिक की सुविधा और बहुमुखी प्रतिभा ने पैकेजिंग से लेकर निर्माण तक विभिन्न उद्योगों में इसका व्यापक उपयोग किया है। हालांकि, टिकाऊपन जो प्लास्टिक को निर्माताओं के लिए एक तरफ इतना आकर्षक बनाता है वहीं दूसरी तरफ पर्यावरण के लिए इसे लगातार खतरा भी बनाता जा रहा है।


प्लास्टिक प्रदूषण की सबसे खतरनाक अभिव्यक्तियों में से एक समुद्री पारिस्थितिकी तंत्र पर इसका प्रभाव है। हर साल, लाखों टन प्लास्टिक कचरा समुद्रों में अपना रास्ता खोज लेता है, जो समुद्री जीवन के लिए एक गंभीर खतरा पैदा करता है। पाँच मिलीमीटर से कम के माइक्रोप्लास्टिक, समुद्री खाद्य श्रृंखला के हर स्तर पर फैले हुए हैं। 

प्लास्टिक प्रदूषण का प्रभाव केवल महासागरों तक ही सीमित नहीं है बल्कि स्थलीय आवास भी प्लास्टिक कचरे से दूषित हो रहे हैं। प्लास्टिक से भरे लैंडफिल मिट्टी के क्षरण में योगदान करते हैं और हानिकारक रसायनों को जमीन में छोड़ देते हैं, जिससे मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण दोनों के लिए खतरा पैदा होता है। कभी जीवन से भरी हुई नदियाँ अब प्लास्टिक के मलबे से भरी हुई हैं, जिससे पानी का प्रवाह बाधित होता है और भारी बारिश के दौरान बाढ़ का खतरा बढ़ जाता है।

यहां तक कि हम जिस हवा में सांस लेते हैं, वह भी प्लास्टिक प्रदूषण के अभिशाप से अछूती नहीं है। वायुजनित माइक्रोप्लास्टिक द्वारा उत्पन्न स्वास्थ्य जोखिमों से हम अभी भी अनभिज्ञ हैं, लेकिन प्रारंभिक अध्ययनों से पता चलता है कि ये श्वास संबंधी बीमारियों और हृदय रोगों में योगदान कर सकते हैं, जो मानव स्वास्थ्य पर प्लास्टिक प्रदूषण के दूरगामी प्रभाव को रेखांकित करता है। 


प्लास्टिक प्रदूषण के संकट से निपटने के लिए एक बहुआयामी दृष्टिकोण की आवश्यकता है जिसमें कानून, नवाचार और व्यक्तिगत कार्रवाई शामिल हो। सरकारों को प्लास्टिक उत्पादन पर अंकुश लगाने, पुनर्चक्रण पहल को बढ़ावा देने और पर्यावरण के अनुकूल विकल्पों के विकास को प्रोत्साहित करने के लिए कड़े नियम बनाने चाहिए। अंतर्राष्ट्रीय सहयोग भी सर्वोपरि है, क्योंकि प्लास्टिक प्रदूषण कोई सीमा नहीं जानता है और एक समन्वित वैश्विक प्रतिक्रिया की मांग करता है।


लेकिन शायद सबसे प्रभावी समाधान प्लास्टिक के प्रति हमारे दृष्टिकोण और व्यवहार को बदलने में निहित है। हमें यह स्वीकार करना चाहिए कि सुविधा मानवता और पर्यावरण की कीमत पर नहीं आनी चाहिए। संरक्षण और प्रबंधन की संस्कृति को अपनाकर, हम दशकों के अनियंत्रित उपभोग से हुए नुकसान को कम कर सकते हैं और आने वाली पीढ़ियों के लिए एक स्वच्छ, स्वस्थ भविष्य का मार्ग प्रशस्त कर सकते हैं। 

चुनाव हमें करना है, क्या हम विनाश के रास्ते पर चलते रहेंगे, या फिर एक स्टैंड लेकर वैष्विक पर्यावरण को संरक्षित करेंगे? 

जवाब, हमेशा की तरह, हमारे हाथों में है।

Comments

Popular posts from this blog

आम आदमी पार्टी के यूथ विंग प्रेसिडेंट अनुराग बराड़ ने दिया इस्तीफा

दी न्यू ड्रीम्स स्कूल में बोर्ड परीक्षा में अच्छी सफलता पर बच्चों को दिया नगद पुरुस्कार

1008 प्रकांड पंडितों ने किया राजस्थान में सबसे बड़ा धार्मिक अनुष्ठान