Featured Post

स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर आमरस एवं भजनामृत गंगा कार्यक्रम का हुआ भव्य आयोजन

Image
जयपुर। स्वर्गीय श्रीमती सुप्यार कंवर की 35वीं पुण्यतिथि पर सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के तत्वावधान में रविवार, 19 मई, 2024 को कांवटिया सर्कल पर भावपूर्ण भजन संध्या का आयोजन के साथ आमरस प्रसादी का वितरण किया गया।  कार्यक्रम में प्रतिभाशाली कलाकारों की आकाशीय आवाजें शांत वातावरण में गुंजायमान हो उठीं, जो उपस्थित लोगों के दिलों और आत्मा को छू गईं। इस अवसर पर स्थानीय जनप्रतिनिधि, आईएएस राजेंद्र विजय, एडिशनल एसपी पूनमचंद विश्नोई, सुरेंद्र सिंह शेखावत, अनिल शर्मा, के.के. अवस्थी, अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण सहित सुप्यार देवी तंवर फाउंडेशन के अध्यक्ष राधेश्याम तंवर, उपाध्यक्ष श्रीमती मीना कंवर, मंत्री मेघना तंवर, कोषाध्यक्ष अजय सिंह तंवर एवं गणमान्य अतिथिगण उपस्थित रहे।

जयघोष से गूंजा श्री कृष्ण बलराम मंदिर, पालकी पर फूलों की वर्षा नयनाभिराम श्रृंगार

जयपुर। जगतपुरा के हरे कृष्ण मार्ग स्थित श्री कृष्ण बलराम मंदिर में गुरुवार को बलराम पूर्णिमा महोत्सव का भव्य आगाज हुआ। भगवान श्री कृष्ण के बड़े भाई भगवान श्री बलराम का प्राकट्य उत्सव धूम धाम से मनाया गया। 

इस अवसर पर हजारों भक्तों की उपस्थिति के बीच बलराम के जन्म पर पूरा कृष्ण बलराम मंदिर कृष्ण भक्ति से सराबोर हो गया और भगवान बलराम और भगवान कृष्ण के जय घोषो से मंदिर गूँज उठा। श्रद्धालु संकीर्तन और नृत्य करते भाव विभोर होकर जमकर झूमे। सुबह से ही  भगवान कृष्ण, भगवान बलराम के नयनाभिराम श्रृंगार और आकर्षक परिधानों से परिपूर्ण दर्शनों के लिए कृष्ण भक्तों का ताँता  लगा रहा | श्रावण पूर्णिमा की शाम को हुए इस भव्य आयोजन में महाआरती प्रमुख आकर्षण का केंद्र रही।

मंदिर के अध्यक्ष श्री अमितासन दास ने बताया कि हर वर्ष की तरह श्री कृष्ण के बड़े भाई बलराम जी की जयंती का भव्य आयोजन श्रावण पूर्णिमा की शाम को किया गया। जयंती  महोत्सव की शुरुआत भगवान श्री कृष्ण और बलराम जी के उत्सव विग्रह के भव्य अभिषेक से हुई।

पालकी पर दो बार हुई रंग बिरंगे फूलों की वर्षा...

भगवान श्री कृष्ण बलराम मंदिर से एक भव्य पालकी के आगे संकीर्तन करते भक्तों  का नजारा आकर्षण का केंद्र बन गया। भव्य पालकी को नए भवन के सुसज्जित हॉल में लाया गया। यहाँ पंचामृत (दूध, दही, घी, शहद, मीठे जल), पंचगव्य और विविध प्रकार के फलों के रस, औषधियों से मिश्रित जल से भरे 108 कलशों और नारियल पानी से अभिषेक किया गया। हरे कृष्ण  महामंत्र “हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे , हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे” का महा संकीर्तन और महाआरती का भव्य आयोजन किया गया। भव्य महाआरती, श्री कृष्ण संकीर्तन और कृष्ण संगीत की मधुर स्वर लहरियों पर हजारों भक्त भावपूर्ण होकर कृष्ण भक्ति में थिरकने लगे । अभिषेक समारोह के बाद भगवान बलराम पर रंग बिरंगे खुशबूदार फूलों से होने वाली वर्षा के दौरान भक्त गण आनंद में डूब गए। श्री कृष्ण बलराम को विशेष प्रकार के 108 भोग  अर्पित भी किये गए।

इसके बाद शाम को पालकी को फिर वापिस श्री कृष्ण बलराम मंदिर ले जाया गया यहाँ दोबारा पालकी को संकीर्तन के साथ  नाचते गाते भक्त श्रद्धा से कंधो पर उठाकर मंदिर के हॉल में ले गए। बड़ी संख्या में उपस्थित भक्तों ने फूलों की वर्षा की।

श्रीमद्भागवत में भगवान बलराम की लीलाओं का विशेष महत्व है।भगवान बलराम की जन्म की लीलाएं भगवान बलराम के द्वारका जाने और द्वारका से वापस वृंदावन आने की लीलाएँ  प्रमुख हैं। भगवान बलराम की एक लीला के अनुसार भगवान बलराम एक बार गुस्से में आ गए थे और उन्होंने यमुना को अनेक धराओं में बांट दिया। कुछ समय पूर्व वृन्दावन में आये अतिवृष्टि के समय यमुना अपना मार्ग भटक गई थी और वह अनेक धाराओं में बहने लगी थी ऐसा माना  जाता है कि भगवान बलराम की लीला के समय जो दृश्य था ऐसा ही वृंदावन वासियो ने हाल ही में वृंदावन में बाढ़ के समय यमुना को अनेक धाराओं में बहते देखा था।

यूट्यूब पर हुआ लाइव प्रसारण...

मंदिर के अध्यक्ष श्री दास ने बताया कि सम्पूर्ण बलराम जयंती के हर कार्यक्रम का यूट्यूब चैनल ‘हरे कृष्ण जयपुर’ पर लाइव प्रसारण किया गया जिससे देश-विदेश में हजारों भक्त  घर बैठे आनंद उठा सके। इसके अलावा मंदिर के ऑफिसियल फेसबुक पेज ‘हरे कृष्ण जयपुर’ पर आकर्षक फोटोग्राफों और सम्पूर्ण कार्यक्रम को अपलोड किया गया।



Comments

Popular posts from this blog

आम आदमी पार्टी के यूथ विंग प्रेसिडेंट अनुराग बराड़ ने दिया इस्तीफा

दी न्यू ड्रीम्स स्कूल में बोर्ड परीक्षा में अच्छी सफलता पर बच्चों को दिया नगद पुरुस्कार

1008 प्रकांड पंडितों ने किया राजस्थान में सबसे बड़ा धार्मिक अनुष्ठान